Himanshu Yadav मेरी प्रिय पुस्तक निबंध | Mera Priya Pustak Nibandh (Essay) | statuswhatsapp.IN - Download Whatsapp Status Video - Love | Attitude | Sad | Romantic | Tamil | Bhojpuri | Marathi

मेरी प्रिय पुस्तक निबंध | Mera Priya Pustak Nibandh (Essay) | statuswhatsapp.IN


मेरी प्रिय पुस्तक


meri priya pustak nibandh



           उत्तम पुस्तके अच्छे मित्र, गुरु और मार्गदर्शन का काम करती है। उनके अध्ययन से हमारा ज्ञानकोश बढ़ता है, जीवनद्रिष्टि विशाल बनती है और अपने व्यक्तित्व के निर्माण में सहायता मिलती है। मैंने अब तक कई उत्तम पुस्तके पढ़ी  है। उन् सबमे गांधीजी की आत्मकथा सत्य के प्रयोग ने मुझे सबसे अधिक प्रभवित किया है। 

         'सत्य के प्रयोग' के एक एक प्रकरण मे सत्य का उद्घाटन हुआ है। गांधीजी ने अपनी दुर्बलताओं का स्पष्ट चित्रण करते हुए ऐसे प्रेरक प्रसंग प्रस्तुत किये है जिनसे पाठक उत्तम शिक्षा प्राप्त कर सकता है।  मांसाहार, धूमपान, चोरी, पत्नी के प्रति कठोर व्यवहार आदि प्रसंगो में गांधीजी ने अपनी कमजोरियों की खुलकर चर्चा की है। दक्षिण अफ्रीका में उनके स्वाभिमानी, स्वावलम्बी और सत्याग्रही स्वरुप का अध्ययन करने से मालूम होता है की उस साधारण दिखाई देने वाले व्यक्ति में कितने असाधारण गन छिपे हुए थे!
       
         'सत्य के प्रयोग' या 'आत्मकथा' गांधीजी की जीवन यात्रा का ही दर्शन कराती है। मोहनदास नाम का एक डरपोक लड़का माता के वचनो में बँधकर, लंदन में सयंम और परिश्रम से वकालत की डिग्री प्राप्त करता है, दक्षिण अफ्रीका में न्याय और मानवता की ज्योति जलाता है और अंत में भारतीय स्वत्रंता-संग्राम के विजयी सेनापति  के रूप में विश्ववंदय बन जाता है। एक सामान्य व्यक्ति के असामान्य बनने की यह यात्रा जितनी प्रेरक है, उतनी ही रोचक भी है।

          इस पुस्तक में गाँधीजी ने सत्य, अहिंसा, धर्म, भाषा, जाती-पाती, अस्पृश्यता आदि अनेक विषयो पर अपने गंभीर विचार व्यक्त किए है। इनसे हमें उस महामानव के चिंतन की जलक मिलती है। गांधीजी ने अपनी यह आत्मकथा इतने सहज ढंग से लिखी है की उसकी जितनी तारीफ की जाए, उतनी कम है। सरल और छोटे-छोटे वाक्यों में उन्होंने भाषा और भाव का सारा वैभव भर दिया है।

          इस प्रकार 'सत्य के प्रयोग' एक महामानव के जीवन की प्रेरक कथा है। इसमें हमारे देश के इतिहास की भी सुन्दर झाकियां है। इस पुस्तक को पढ़कर न जाने कितने लोगो के जीवन में अद्भुत परिवर्तन हुए है। इस पुस्तक के प्रभाव से ही मै कई बुराइयों से बच गया हूँ और मुझमे साधगुणो का विकास हुआ है।  जिस प्रकार गाँधीजी मेरे प्रिय नेता है, उसी प्रकार उनकी आत्मा कथा मेरी प्रिय पुस्तक है। 
Powered by Blogger.